कौन है मार्शल अर्जन सिंह, क्यों मनाया जाएगा उनके जन्म दिन पर National Aviation Day

राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने वाणिज्य व उद्योग और नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु को पत्र लिखकर 15 अप्रैल को National Aviation Day के रूप में घोषित किए जाने का अनुरोध किया है।

अपने पत्र में सांसद ने कहा है कि 15 अप्रैल को पद्मविभूषण भारतीय वायुसेना मार्शल अर्जन सिंह का जन्म दिन है। 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में उनकी उल्लेखनीय सेवाओं के कारण भारत सरकार ने उन्हें पद्मविभूषण से सम्मानित किया था।

मार्शल अर्जन सिंह के बारे में ज़रूरी बातें:

arjun singh facts IAF national avaitation day

1. पद्म विभूषण से सम्मानित भारतीय वायुसेना के मार्शल अर्जन सिंह एक मात्र ऐसे ऑफिसर थे जिन्हें फाइव स्टार रैंक दी गई थी. फाइव स्टार रैंक फील्ड मार्शल के बराबर होती है.

2. अर्जन सिंह का जन्म पंजाब के लयालपुर में 15 अप्रैल 1919 को हुआ था, जो अब पाकिस्तान के फैसलाबाद के नाम से जाना जाता है. अर्जन सिंह भारतीय वायुसेना के एकमात्र फाइव स्टार रैंक ऑफिसर थे.

3. अर्जन सिंह 1 अगस्त 1964 से 15 जुलाई 1969 तक चीफ ऑफ एयर स्टाफ रहे. 1965 की लड़ाई में अभूतपूर्व प्रदर्शन के लिए उन्हें एयर चीफ मार्शल के पद पर प्रमोट किया गया था.

READ MORE:  क्या है 86वीं वर्षगांठ पर भारतीय वायुसेना द्वारा चलाए जाने वाला #IAFQuiz2018 कम्पीटीशन

4. 1971 में अर्जन सिंह को स्विट्जरलैंड में भारत का एंबेसडर नियुक्त किया गया. इसके अलावा उन्होंने वेटिकन और केन्या में भी देश के लिए अपनी सेवाएं दी थी.

5. अर्जन सिंह ही केवल ऐसे चीफ ऑफ एयर स्टॉफ थे जिन्होंने एयरफोर्स प्रमुख के तौर पर लगातार पांच साल अपनी सेवाएं दीं.

6. 96 साल की अवस्था में अर्जन सिंह ने व्हीलचेयर पर बैठ कर पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को पालम एयरपोर्ट पर श्रद्धांजलि दी थी.

arjun singh indian air force marshal special story in hindi facts salutiing APj abdul kalam

7. अप्रैल 2016 में अर्जन सिंह के 97वें जन्मदिन के मौके पर चीफ ऑफ एयर स्टॉफ एयर चीफ मार्शल अरुप राहा ने पश्चिम बंगाल स्थित पनागढ़ एयरफोर्स बेस का नाम अर्जन सिंह के नाम किया. पनागढ़ एयरबेस अब एमआईएफ अर्जन सिंह के नाम से जाना जाता है. यह पहली बार था जब एक जीवित ऑफिसर के नाम पर सैन्य प्रतिष्ठान का नाम रखा गया.

10. 19 साल की अवस्था में अर्जन सिंह ने रॉयल एयरफोर्स कॉलेज ज्वॉइन किया. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अर्जन सिंह ने बर्मा में बतौर पायलट और कमांडर अदम्य साहस और वीरता का प्रदर्शन किया था.

READ MORE: Navy Day: 4 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है नौसेना दिवस?

11. अर्जन सिंह के प्रयासों की बदौलत ही ब्रिटिश भारतीय सेना ने इंफाल पर कब्जा किया. इसके बाद उन्हें डीएफसी की उपाधि से नवाजा गया.

12. 1950 में भारत के गणराज्य बनने के बाद अर्जन सिंह को ऑपरेशनल ग्रुप का कमांडर बनाया गया. यह ग्रुप भारत में सभी तरह के ऑपरेशन के लिए जिम्मेदार होता है.

13. 1964 में उन्हें चीफ ऑफ एयर स्टॉफ बनाया गया. 1965 में पाकिस्तान के खिलाफ जंग में अर्जन सिंह ने आगे बढ़कर वायुसेना के अभियानों का नेतृत्व किया.

14. पाकिस्तान के खिलाफ जंग में अर्जन सिंह ने अद्भुत नेतृत्व क्षमता दिखाई और पाकिस्तान के भीतर घुसकर भारतीय वायुसेना ने कई एयरफील्ड्स तबाह कर डाले.

15. वायुसेना के इतिहास में एयर वाइस मार्शल के पद पर सबसे लंबे समय तक सेवा देने का रिकॉर्ड अर्जन सिंह के पास है.

  • 12
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *